There was an error in this gadget

Monday, September 29, 2014

मेरा क्या है
बचपन की चंचलता माँ के लिए,
विद्यार्थी जीवन गुरु को समर्पित|
वयस्क हूँ प्रेमिका के सृंगार कृत,
वृद्ध बनुंगा ईस्वर की भक्ति के लिए||
मेरा क्या है 
सीस माता-पिता,गुरु के सम्मान के लिए,
शारीर का कर्त्यव दूसरों की सेवा है|
पौरुष और वीरता करेंगे नारी धर्म,
नेत्र प्रकृति और सत्य दर्शन के लिए||
मेरा क्या है
छमा और करुणा शत्रु के लिए,
प्यार जीवन-संगिनी को समर्पित|
भविष्य को मिलेगीं हस्त रेखाएं, 
इच्छा मन की तृप्ति के लिए||
मेरा क्या है 
सदाचार और सन्स्कार पुत्र के लिए,
सहयोग हमेशा मित्र के साथ|
अतिथि को मिलेगा आदर और सत्कार,
ज्ञान और चिन्तन साहित्य को समर्पित
बचा प्राण जो यमराज के लिए||
मेरा क्या है 


डॉ तेज प्रताप सिंह

स्वामी दर्शन..........'तेज'

                       
                        छोड़ मेरा संग
                        प्रिये गये कहाँ,
                        विरह की अग्नि में
                        तन-मन भस्म यहाँ ।।

                       गृह स्वामी दर्शन में 
                       मृग नयन पथरायी,
                       हर्दय में शेष कंपन
                       मिलन मात्र बवरायी ।।

                      त्याग परदेश प्रेम
                      चरण धरो गृह चौखटा,
                      जो बना है बिना हरण
                      रावण अशोक वाटिका ।।

                                                      'तेज'
 

Monday, September 22, 2014

क्या करूँ

उनकी याद मिटाने को 
उन्हें अपने ख़्वाबों में भुला आया,  
फिर भी ना बनी बात तो 
बाजार से एक बोतल खरीद लाया,
पी तो लेता मैं पूरी बोतल यारों
पर आधी में ही 
मैं उन्हें चौपाटी पर मिल आया।  

डॉ तेज प्रताप सिंह 
२१/०९/२०१४ 
क्या करूँ