There was an error in this gadget

Tuesday, August 2, 2011

हमने देखी ना थी चंचलता उनकी इस अदा में,
जिसका ढाल बना वो मेरा दिल ले गए,
पहले तो हम कभी-कभी मरा करते थे,
आज तो वो मेरी हर सांस को ही कत्ल कर गए |   

आकर अपने बाजुओं में मुझे सुलाया करते थे,
जाते-जाते माथे पर हाथ भी फिरा दिया करते थे,
पर जबसे उन्होंने चुराया मेरा दिल इन अदायों से,
आना तो दूर गाहे बगाहे मेरा हाल भी पूछना भूल गए | 




"तेज"

2 comments:

  1. har dil har pal khud se hi mahsus kar tera haal jaan liya karte hain....najar utha kar dekho to ek baar...aaj bhi hum vhi khade rahte hain...
    lajabab....bahut khoob....aabhar

    ReplyDelete